हमारे देश का नाम भारत, इंडिया या हिंदुस्तान जानें Sadhguru ने क्या कहा

हमारे देश का नाम भारत, इंडिया या हिंदुस्तान को लेकर पिछले कई दिनों से सवाल बना हुआ है क्या देश का नाम बदलने वाला है दरअसल यह पूरा मुद्दा तब शुरु हुआ जब राष्ट्रपति की ओर से जी-20 देशों के प्रतिनिधियों को रात्रिभोज के लिए एक निमंत्रण पत्र भेजा गया हमेशा से भारत सरकार के सभी ऑफिशल डॉक्यूमेंट पर अंग्रेजी में President of India और हिंदी में ‘भारत के राष्ट्रपति’ लिखा जाता रहा है| लेकिन इस बार प्रेसिडेंट की तरफ से भेजे गए इस निमंत्रण पत्र पर President of Bharat लिखा हुआ था ऐसे में विपक्ष का कहना है की 18 से 22 सितंबर को होनेवाले विशेष सत्र में देश के नाम से इंडिया हटाने को लेकर सरकार कोई विधेयक ला सकती है जैसे ही यह निमंत्रण पत्र सोशल मीडिया पर आया, इसके आते ही राजनैतिक बयानबाजी शुरू हो गई आसाम के मुख्यमंत्री हिमन्त बिश्व शर्मा ने ट्वीट कर लिखा “REPUBLIC OF BHARAT-खुश हूं और गर्व है कि हमारी सभ्यता साहस के साथ अमृतकाल की ओर बढ़ रही है.” तो वहीं विपक्षी दलों के नेता ने कहा कि सरकार विपक्षी गठबंधन से डर गई है जिस का नाम इंडिया(INDIA) रखा गया है विपक्षी नेता का कहना है की सरकार देश का नाम बदलना चाह रही है लेकिन आप को बता दें कि इन सभी मुद्दों पर भारत सरकार की तरफ से अभी कोई ऑफिशियल जानकारी नहीं दी गई है  आइए जानते हैं कि देश के नाम को लेकर Sadhguru का क्या कहना है

देश के नाम को लेकर Sadhguru का क्या कहना है

आपको बता दें कि Sadhguru ने 2014 में दिए गए एक इंटरव्यू में भारत के नाम को लेकर कई बातें बताई दरअसल यह बातें उन्होंने एक प्रश्न के जवाब को देते हुए बताया यह प्रश्न उन से पॉन्डिचेरी के पूर्व लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने किया था 

किरन बेदी Sadhguru संवाद

sadhguru3

किरण बेदी का प्रशन “क्या वही हिन्दुस्तान, भारत था? क्या आज का इंडिया उससे अलग है? क्या इंडिया बदल गया है और उसने भारत को बदल दिया है?” इस प्रश्न का जवाब देते हुए sadhguru आगे बताते हैं कि “भा का मतलब है, भाव या संवेदना, जिससे भावनाएं उत्पन्न होती हैं। ‘रा’ का आशय राग से है। यह राग आपका नहीं है, सृष्टि ने इसे पहले ही तैयार कर रखा है। अब बस आपको वो लय ढूंढनी है, जो ‘त’ यानी ताल हुई।।” इसके बाद किरण बेदी ने उन से दूसरा प्रश्न किया “अपने देश का नाम भारत से बदलकर इंडिया करने में क्या हमने गलती की?” तो इसका उन्होंने जवाब दिया “देश का नाम भारत से बदलकर इंडिया रखना एक गंभीर गलती थी। जब भी कोई आक्रमणकारी किसी देश को जीतता है तो सबसे पहले वह उसका नाम बदल देता है। यह लोगों पर प्रभाव जमाने की और उन्हें गुलाम बनाने की तकनीक है।” इसके बाद किरण बेदी ने sadhguru से पूछा की “अगर हम इंडिया को ‘भारत’ कहना शुरू कर दें तो क्या यहां महिलाएं खुद को पहले से ज्यादा सुरक्षित महसूस करना शुरू कर देंगी? आप तो जानते ही हैं कि अपने यहां महिलाओं के साथ कैसा बर्ताव हो रहा है, खासकर ग्रामीण भारत और समाज के कमजोर तबकों में।” इसका जवाब देते हुएsadhguru कहते हैं “ऐसा नहीं है कि नाम ही सबकुछ करेगा, लेकिन नाम लोगों में देश के प्रति भावना व प्रेरणा जगाने का काम करता है। फिलहाल तो उनमें सिर्फ हारमोन जनित भावनाएं ही काम कर रही हैं, देश के लिए किसी तरह की भावनाएं नहीं हैं। इसलिए महिलाओं के साथ इस तरह की घटनाएं घट रही हैं।”

उम्मीद है कि आज का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा इस तरह के और भी आर्टिकल को पढ़ने के लिए और हम से जुड़े रहने के लिए आप हमारे व्हाट्सएप्प ग्रुप को ज्वाइन कर सकते हैं मुझे दबाओ

Leave a Comment