Share Market : शेयर बाजार में निवेश करने वाले के लिए बड़ी खबर, SEBI ने शेयर बाजार में निवेश करने का तरीका बदला

Share Market : अगर आप शेयर बाजार से शेरों की खरीद बिक्री करते हैं तो यह खबर आपके लिए है कल मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) की 203बी बैठक थी इस बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए इन फैसलों की वजह से बहुत जल्द आपको नई और खास सुविधा का फायदा मिल सकता है इस बैठक में कई पहलुओं पर चर्चा हुई सबसे बड़ा फैसला राइट्स के नियमों को लेकर किया गया इसके अलावा इस बैठक में सोशल स्टॉक एक्सचेंज के नियमों को भी आसान किया गया है हालांकि सेबी (SEBI) ने डीलिस्टिंग के नियमों में बदलाव पर कोई फैसला नहीं लिया 

अब शेयर बाजार में (T+0) सिस्टम लागू होगा 

देश में मार्च 2024 तक (T+0) सिस्टम यानी शेरों को उसी दिन सेटलमेंट करने की व्यवस्था लागू हो सकती है सेबी (SEBI) की चेयरपर्सन माधाबी पूरी बुज के मुताबिक इसके लिए नए रोड मैप तैयार किया गया है जिसके बाद तत्काल सेटलमेंट को लेकर वैकल्पिक सिस्टम भी लाया जाएगा और यह दोनों समांतर रूप से साथ-साथ चलेंगे 

शेयर बाजार में लगातार नई कंपनियों की संख्या में वृद्धि 

इसके अलावा आईपीओ बाजार में भीड़ पर सेबी चेयरपर्सन ने कहा कि रिटेल निवेशकों को इस होर से बचने और सतर्क रहने की जरूरत है आईपीओ (IPO) के दौरान कंपनी की वैल्यूएशन निकालने का तरीका परफेक्ट नहीं होता है ऐसे में सही रणनीति यह होगी कि रिटेल निवेशक इन कंपनियों के शेयर प्राइस को सेटल होने दें और स्टॉक मार्केट के जरिए इसमें निवेश करें बता दें शेयर बाजार में इन दिनों लगातार नई कंपनियां आ रही हैं इनके आईपीओ में पैसा लगाने के लिए निवेशकों में भी होड़ मची हुई है सिर्फ इस हफ्ते यानी 20 से लेकर 24 नवंबर तक पांच आईपीओ में निवेशकों ने ₹2.5 लाख करोड़ से अधिक की बोलियां लगाई हैं 

सोशल स्टॉक एक्सचेंज फ्रेमवर्क के नियमों को मिली मंजूरी

सोशल स्टॉक एक्सचेंज के नियमों में किए गए बदलाव पर सेबी (SEBI) ने सोशल स्टॉक एक्सचेंज फ्रेमवर्क के नियमों में बदलाव को मंजूरी दे दी है अब गैर सरकारी संस्था सोशल स्टॉक एक्सचेंज से कम से कम 50 लाख तक जुटा सकती हैं पहले यह सीमा ₹1 करोड़ थी निवेशकों के लिए नए नियम और भी आसान किए गए हैं अब सोशल स्टॉक एक्सचेंज के जरिए निवेश की सीमा को 2 लाख से घटाकर ₹10000 कर दिया गया है बता दें सोशल स्टॉक एक्सचेंज की शुरुआत NGO और दान देने वालों को एक दूसरे के करीब लाने और दान में पारदर्शिता बढ़ाने के लिए किया गया है 

SEBI ने MSM के नियमों को दी मंजूरी 

सेबी (SEBI) ने एमएसएम (MSM) यानी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम- विकास संगठन के नियमों को भी मंजूरी दे दी है इसके तहत छोटे और मजले राइट्स के लिए न्यूनतम एयूएम को 500 करोड़ से घटाकर 50 करोड़ कर दिया गया है साथ ही सेबी (SEBI) ने एमएसएम (MSM) राइट्स में नए फ्रैक्शन ओनरशिप के नियमों को भी मंजूरी दे दी है नए नियमों के मुताबिक निवेशक को किसी राइट्स के तहत आने वाले रियल स्टेट में हिस्सा भी मिल सकता है बता दें इस बैठक में सेबी (SEBI) ने डीलिस्टिंग के नियमों में बदलाव पर कोई फैसला नहीं लिया है यह मुद्दा काफी वक्त से सेबी के एजेंडे में था बीते अगस्त में रेगुलेटर ने इस पर सुझाव लेने के लिए कंसल्टेशन पेपर भी जारी किया था इस कंसल्टेशन में ही ज्यादातर सुझाव फिक्स्ड प्राइस मैकेनिज्म पर आए थे सेबी (SEBI) डीलिस्टिंग के दौरान शेरों की कीमतों को लेकर किसी भी तरह की गड़बड़ी को रोकना चाहती है सेबी (SEBI) को पिछले दिनों कुछ मामलों में इस तरह की गड़बड़ी का संदेह था हालांकि फिक्स्ड प्राइस मेकैनिज्म का ऑप्शन मौजूदा रिवर्स बुक बिल्डिंग के विरुद्ध है अब इस मसले पर चर्चा सेबी की अगली किसी बैठक में होने की संभावना है

Leave a Comment