POK से आए लोगों पर Modi सरकार करेगी बड़ा ऐलान, पेश हो सकता बिल !

POK से आए लोगों पर Modi सरकार करेगी बड़ा ऐलान, पेश हो सकता बिल !

Pok में पाकिस्तान की सेना की हरकतें बढ़ती जा रही तो वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान की इन्हीं हरकतों पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार चलने जा रही है। Pok पर बड़ा दांव दरअसल, मोदी सरकार संसद के मानसून सत्र में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल 2023 ला सकती है। इस बिल में जम्मू कश्मीर विधानसभा में नामांकन के आधार पर विस्थापित कश्मीरी पंडितों के लिए दो सीटें और पीओके कश्मीर के विस्थापितों के लिए एक सीट रिज़र्व की जाएगी।

कश्मीरी पंडितों की एक सीट महिला के लिए भी आरक्षित रहेंगी। चलिए अब जानते हैं क्या कुछ है इस बिल में तो बिल के मुताबिक उपराज्यपाल इन सदस्यों को विधानसभा में मनोनीत करेंगे। जानकारी के मुताबिक परिसीमन के बाद जम्मू कश्मीर विधानसभा में अब कुल 90 सीटें हैं, लेकिन संशोधन बिल पास होने के बाद ये संख्या खुद बढ़ जाएगी। इससे पहले अनुच्छेद 370 और 35 A को रद्द करने के बाद एक परिसीमन आयोग का गठन किया गया था की सिफारिश के आधार पर ही ये बदलाव किया जाएगा। हालांकि एक और जहाँ कश्मीरी पंडितों ने सरकार के इस कदम की सराहना की, पीओजेके के विस्थापित लोगों ने विधानसभा में नामांकन के आधार पर उनके लिए केवल एक सीट आरक्षित होने पर निराशा ज़ाहिर की है। तो वहीं वरीष्ठ बीजेपी नेता और जम्मू कश्मीर के पूर्व उप मुख्यमंत्री डॉक्टर निर्मल सिंह ने इंडिया टुडे से विशेष बातचीत में कहा कि कश्मीरी पंडितों को विधानसभा में प्रतिनिधित्व से वंचित कर दिया गया था। इसी तरह पीओजेके विस्थापितों की विधानसभा में कोई आवाज नहीं थी। हमारी पार्टी ने विस्थापित कश्मीरी पंडितों और पीओजेके सिर्फ स्थापित लोगों को राजनीतिक आरक्षण देकर अपना वादा पूरा किया। ये कदम जम्मू कश्मीर में विस्थापित समुदाय को सशक्त बनाएगा। अब आप समझ गए होंगे की बड़े और कड़े फैसले देने का जिगर होना चाहिए। पाकिस्तान भी जानता है कि अब ज्यादा दिनों तक पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान पर उसका अवैध कब्जा कर पाना मुश्किल है क्योंकि मोदी सरकार का इंटरनैश्नल प्लैन तैयार है। अब इसे यूं समझिए। साल 1992 में नरेंद्र मोदी ने लाल चौक पर तिरंगा फहराने का कमिटमेंट किया और तय तारीख पर उसे पूरा किया। मोदी ने 370 हटाने की शपथ खाई थी, उस शपथ को पूरा किया। पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को मारने का कमिटमेंट किया था। भारतीय सेना ने पाकिस्तान को घर में घुसकर मारा। 2014 में नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तभी को वापस लेने का मिशन शुरू हो गया। पहला ट्रेलर 15 अगस्त 2016 को लाल किले से प्रधानमंत्री ने जारी किया। साल 2019 में पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों के ठिकाने पर बम वर्षा करवाई। 2022 में रूस ने खुल्लमखुल्ला भारत के नक्शे में पीओके को भारत का हिस्सा दिखाया। मतलब तैयारी पूरी है। खैर, अब अगर ये बिल पास हो जाता है तो कहीं ना कहीं पाकिस्तान के माथे पर पसीना जरूर आएगा। और आपको क्या लगता है पाकिस्तान की सेना को मार भगाएगी भारतीय सेना पीओके से कमेंट कर जरूर बताएं।

Leave a Comment