Islamic देशों ने मांगी India से मदद बोले India ही palestine-israel conflict को रोक सकता है 

अरब (Islamic) देशों के राजदूत भारत (India) पहुंचे तो एक ही मांग के साथ कि फिलिस्तीन (palestine) में जारी जंग को भारत किसी भी तरह रोक ले. इन देशों ने फिलिस्तीन (palestine) के प्रति समर्थन जताते हुए उम्मीद जताई कि मिडिल ईस्ट में शांति बहाली के लिए भारत (India) की महत्त्वपूर्ण भूमिका हो सकती है इस कार्यक्रम में कई अरब देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया | नई दिल्ली में फिलिस्तीन के दूतावास में हुए कार्यक्रम में तनिश, सीरिया, बहरीन, लेबनान, मोरोको, यमन, जॉर्डन, सूडान, ओमान, लीबिया, मिस्र, कुवैत, अल्जीरिया, कतर, इराक, सऊदी अरब, नाइजीरिया, और जिबूती के राजदूतों ने हिस्सा लिया इस दौरान भारत (India) में फिलिस्तीन (palestine) के राजदूत अदनान अबू अलहाजा और अरब लीग के राजदूत यूसुफ मोहम्मद जमील की अगुवाई में स्वतंत्र फिलिस्तीन राष्ट्र बनाने की मांग की.

palestine-israel conflict को रोकने के लिए बनाया गया प्रतिनिधि मंडल 

सऊदी अरब के राजदूत सालेह अल हुसैनी ने शांति और स्थिरता के लिए वैश्विक राजनीति में भारत (India) की भूमिका के महत्व पर जोर दिया उन्होंने हाल ही में रियाद में हुए अरब इस्लामिक समिट के सार का भी उल्लेख किया जिसमें सीज फायर और इजराइल (israel) को हथियारों की निर्यात पर रोक लगाने की मांग की गई थी अरब इस्लामिक समिट रियाद में हुआ जिसमें कई प्रस्ताव पेश हुए इस समिट में एक प्रतिनिधि मंडल का गठन भी हुआ जिसका उद्देश्य सभी प्रमुख वैश्विक राजधानियों तक पहुंच बनाना है ताकि शांति स्थापित की जा सके और palestine-israel conflict को रोका जा सके |

India से मागी मदद 

अब इसी कड़ी में रियाद समिट के बाद संयुक्त बयान में गाज (Gaza) में युद्ध को रोकने और फिलिस्तीन (palestine) को लेकर गंभीर राजनीतिक चर्चा शुरू करने के लिए जॉर्डन, मिस्र, कतर, तुर्की, इंडोनेशिया, नाइजीरिया, और फिलिस्तीन (palestine) के विदेश मंत्रियों के साथ सऊदी अरब के विदेश मंत्री को निर्देश दिए गए उन्होंने कहा कि भारत (India) मिडल ईस्ट में शांति दूत की भूमिका निभा सकता है भारत एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण देश है वैश्विक स्तर पर शांति और स्थिरता के समर्थन के लिए भारत एक बड़ी भूमिका निभा सकता है भारत (India) ने g20 की अध्यक्षता की है और वैश्विक स्तर पर शांति और स्थिरता को समर्थन देने का उसका एक लंबा इतिहास रहा है 

इस बैठक का मकसद इजराइल और हमास के बीच में जारी जंग को लेकर एक बेहतर निष्कर्ष निकालने के लिए था लेकिन इजराइल की वजह से Gaza जख्मी है फिलिस्तीन (palestine) के राजदूत अदनान अबू अलहाजा ने फिलिस्तीन के लोगों विशेष रूप से गाज और वेस्ट बैंक के लोगों के लिए बेहद बुरी स्थिति पर चिंता जताई उन्होंने इजराइली (israel) सरकार को आक्रामक रुख अख्तियार करने के लिए दोष भी ठहराया लेकिन फिर भी इजराइल जंग को नहीं रोक रहा इजराइल के प्रधानमंत्री साफ कह चुके हैं कि वह Hamas के खत्म होने तक जंग जारी रखेंगे भले ही सीस फायर हो गया हो लेकिन फिर भी वह जंग रोकेंगे नहीं अब इसी का डर इस्लामिक देशों को सता रहा है और वह भारत से मदद मांग रहे हैं |

Leave a Comment