Indian Economy : भारत ने रचा इतिहास, पहली बार भारत की इकोनॉमी 4 ट्रिलियन डॉलर के पार

भारत की अर्थव्यवस्था में ऐतिहासिक बढ़ोतरी हुई है पहली बार भारत की इकोनॉमी 4 ट्रिलियन डॉलर के पार पहुंच चुकी है और इसके साथ ही यह दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बनने के बेहद करीब पहुंच चुका है भारत की 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हासिल करने की दिशा में यह एक बड़ी बढ़ोतरी है वित्त वर्ष 2023-24 की पहली तिमाही के दौरान भारत की जीडीपी 7.8% ग्रोथ हुई हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा था देश की अर्थव्यवस्था पर भरोसा बढ़ रहा है गवर्नर ने 31 अक्टूबर के अपने बयान में बताया था कि आर्थिक गतिविधियों को देखते हुए कुछ शुरुआती आंकड़े सामने आए हैं जिससे उन्हें उम्मीद है कि नवंबर के अंत में दूसरी तिमाही के दौरान आने वाले जीडीपी के आंकड़े चौकाने वाले हो सकते हैं जीडीपी लाइव के आंकड़े को देखें तो पता चलता है कि भारत ने 18 नवंबर की देर रात को ही यह मुकाम हासिल कर लिया था और पहली बार 4 ट्रिलियन के आंकड़े को पार कर वो निकल गया हालांकि अभी तक भारत चौथे पैदान से दूर है

दुनिया की पांच सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश 

अभी दुनिया की चौथी अर्थव्यवस्था वाला देश जर्मनी है और भारत और इसके बीच का फासला बेहद कम हो चुका है भारत दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश है वहीं अमेरिका अभी पहले नंबर पर है जिसकी अर्थव्यवस्था की साइज 26.7 ट्रिलियन डॉलर है इसके बाद दूसरे नंबर पर है चीन और इसकी अर्थव्यवस्था का आकार है 19.2 ट्रिलियन डॉलर, तीसरे नंबर पर जापान है जिसकी अर्थव्यवस्था है 4.39 ट्रिलियन डॉलर जर्मनी इस मामले में चौथे नंबर पर है इसकी अर्थव्यवस्था है 4. 28 ट्रिलियन डॉलर 

पहली बार Indian Economy 4 ट्रिलियन डॉलर के पार

केंद्र सरकार का अगला लक्ष्य 2025 तक देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने का है एसएनपी ग्लोबल इंडिया मैन्युफैक्चरिंग ने हाल ही में अपने एक बयान में कहा था कि भारत की अर्थव्यवस्था साल 2030 तक जापान को पीछे छोड़ते हुए दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन जाएगा इसके साथ ही एशिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन जाएगा इस कड़ी में देखें तो भारत बड़ी ही तेजी से आगे बढ़ता चला जा रहा है और उम्मीद ऐसी की जा सकती है कि आने वाले एक से दो साल में ही वह ऐसा कर दे हालांकि यह लक्ष्य 2030 तक का दिया गया है लेकिन भारत जिस दिशा में कमिटमेंट कर चुका है कि वह 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हासिल करेगा उसे देखकर लगता है कि भारत बड़ी तेजी के साथ उस दिशा में बढ़ रहा है साथ ही भारत ने जिस तरह से मेक इन इंडिया और मेड इन इंडिया का प्रचार प्रसार किया है उस पर जिस तरह से नीतिगत तरीके से काम किया है उसका फायदा होता हुआ दिख रहा है क्योंकि दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियां भारत में अपना मैन्युफैक्चरिंग हब सेट कर रही है इसके जरिए सिर्फ भारत अपनी व्यक्तिगत उछाल ही कायम नहीं कर रहा है और बढ़िया मुकाम ही हासिल नहीं कर रहा है इसके साथ ही भारत चीन को काउंटर करने वाली एक बड़ी शक्ति के तौर पर भी सामने उठ खड़ा हुआ है 

Leave a Comment