Dawood Ibrahim के मौत को लेकर पड़ा खुलासा, जाने किसके कहने पर Dawood Ibrahim को मौत की नींद सुलाया गया

पाकिस्तान में आज की सुबह आतंकियों के लिए भयंकर अंधेरा लेकर आई है अंधेरे पर ध्यान दीजिएगा, क्योंकि अंधेरे में ही पाकिस्तान में बड़ा खेल हुआ है मीडिया रिपोर्ट्स में आशंका जताई जा रही है कि सालों से पाकिस्तान में रह रहे अंडरवर्ल्ड डॉन Dawood Ibrahim को जहर दिया गया है रिपोर्ट्स के मुताबिक Dawood Ibrahim को कराची के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है 

Dawood Ibrahim की मौत कब हुई? 

दावा किया गया है कि Dawood Ibrahim को उसके घर पर ही जहर दिया गया है वैसे एक जगह तो यहां तक दावा किया गया है कि Dawood Ibrahim को 15 दिसंबर को जहर दिया गया था और 17 दिसंबर को वह मर भी गया लेकिन इस बात की कोई पुष्टि नहीं है पाकिस्तान तो वैसे भी इस पर कोई बयान नहीं देगा क्योंकि पाकिस्तानी सरकार तो यह बोलती आई है कि Dawood Ibrahim उनके देश में है ही नहीं अगर यह बात सच है तो इससे बड़ी खबर और क्या होगी सुनने में तो यहां तक आया है कि हाफिज सईद भी डर के मारे खून के आंसू रो रहा है 

Dawood Ibrahim को किसने जहर दिया और पाकिस्तान में आतंकियों को कौन मार रहा है 

इसके बारे में आपको आगे बताते हैं लेकिन उससे पहले हमने आपको कहा था कि अंधेरे पर ध्यान रखिएगा तो आपको बता दें कि जिस वक्त कराची से खबर आई कि दाऊद इब्राहिम को जहर दिया गया है लगभग उसी वक्त कराची के कई इलाकों में अचानक लाइट चली गई कराची में अंधेरा छा गया Dawood Ibrahim कराची में ही रहता था कराची के एयरपोर्ट पर भी अंधेरा छा गया यह भी दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान के कई इलाकों में इंटरनेट सर्विसेस पर भी हमला हुआ है कुछ समय के लिए कराची, लाहौर, रावलपिंडी और मीरपुर खान जैसे इलाकों में इंटरनेट चलना बंद हो गया अब आप इसे संजोग कहिए या कुछ और लेकिन जब खबर आई कि Dawood Ibrahim को जहर दिया गया है लगभग उसी वक्त कराची में लाइट चली गई और इंटरनेट बंद हो गया पाकिस्तान में कुछ ना कुछ गड़बड़ तो जरूर हो रही है लेकिन पाकिस्तान में जो कुछ हो रहा है बहुत अच्छा हो रहा है मगर सबसे बड़ा सवाल यह है कि पाकिस्तान में हो रही इन रहस्यमय घटनाओं के पीछे कौन है कई एक्सपर्ट्स दावा कर रहे हैं कि पाकिस्तान में आतंकियों का सफाया तालिबान के कहने पर हो रहा है अफगानिस्तान का तालिबान और पाकिस्तान का टीटीपी ही मिलकर आतंकियों का सफाया कर रहे है लेकिन सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि तालिबान की मदद पाकिस्तान की सेना और आईएसआई खुद कर रही हैं यह सुनकर आपको अजीब लग रहा होगा लेकिन इस बात में सच्चाई की पूरी संभावना है बिना पाकिस्तानी सेना और आईएसआई के सपोर्ट के बिना आतंकियों को मारना आसान नहीं है आतंकियों को पालना और उन्हें सिक्योरिटी देना पाकिस्तान के लिए आर्थिक और कूटनीतिक स्तर पर महंगा पड़ता जा रहा है |

Leave a Comment