CAA की लोकसभा चुनाव से पहले होगी वापसी, इस तरीके से कर पाएंगे अपना आवेदन 

2019 लोकसभा चुनाव के बाद बना सबसे बड़ा मुद्दा Citizenship Amendment Act यानी कि CAA एक बार फिर चर्चा में है माना जा रहा है कि 2024 लोकसभा चुनाव से पहले इसे लागू किया जा सकता है सरकार ने CAA से जुड़े नियमों को तैयार कर लिया है इस कानून को आसान भाषा में समझे तो पाकिस्तान बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए गैर मुस्लिम यानी हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई जो 31 दिसंबर 2014 तक भारत आ गए हैं उनको भारत की नागरिकता दी जाएगी. इन लोगों को कोई भी दस्तावेज देने की जरूरत नहीं होगी इस व्यवस्था को आसान बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन की भी प्रक्रिया शुरू की जाएगी. इसके लिए पोर्टल तैयार कर लिया गया है.

सरकारी अधिकारी ने क्या कहा 

अब सवाल यह कि कब तक नोटिफिकेशन जारी किया जा सकता है मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी का कहना है कि अप्रैल-मई में लोकसभा चुनाव होने की संभावना है और इससे पहले CAA को को नोटिफाई किया जा सकता है. 2019 में संसद से CAA को पारित किया गया था जिसके बाद देश के कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन हुए थे अभी तक की बात करें तो पिछले 2 साल में कुल नौ राज्यों में 30 से अधिक जिला मजिस्ट्रेट्स और गृह सचिवों को नागरिकता अधिनियम 1955 के तहत अफगानिस्तान बांग्लादेश और पाकिस्तान से आने वाले गैर मुस्लिम समाज के लोगों को भारतीय नागरिकता देने की शक्तियां दी गई थी लेकिन अब केंद्र सरकार की योजना है कि इस प्रक्रिया को ऑनलाइन कर और आसान बनाया जा सके जिला मजिस्ट्रेट और ग्रह सचिवों के हस्तक्षेप को भी कम किया जाए.

तो क्या फिर से देश में आंदोलन होगा 

साल 2019 से ही CAA को लेकर देश में राजनीतिक माहौल गर्म है. 2019 में संसद से CAA को पारित किया गया था उसके बाद देश में कई जगहों पर CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन देखने को मिला. मुस्लिम समुदाय CAA को खतरा मानती है और इसके लिए देश के कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन किया गया था. यह विरोध कई राज्यों में आक्रामक होते भी दिखा. दिल्ली में तो यह विरोध प्रदर्शन इतना बढ़ गया था कि दिल्ली के कई इलाकों में आगजनी और गैरमुस्लिम संस्थाओं और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई. 

Leave a Comment